लिपट रहा है तेरे इश्क का लिबाज मुझसे हवा जैसे
रोक लो इन्हें हमें तबाह करने से पहले
बहने दिया तुमने तो
न साजिश करना फिर मुझसे दूर जाने की
बनाया है तूने इश्क को लिबाज मेरा
बिछड़ने से पहले पहले खयाल करना
मेरी लुटती आबरू का
सवँर जाओगे तुम किसी और नाम से
जो बस तेरे नाम से खत्म होगा जरा सा फिक्र करना।

Advertisements