यूँ जिन्दगी की राह में तुम आके गुजर जाओगे
मे देखा करूँगा राह तेरी तुम आ न सकोगे
होगा तेरा इन्तजार निगाहों में मेरी
तुम हर बार की तरह आँसू बन निकल आओगे
करो न अब ये सितम मुझपर
जला हूँ हरपल तेरी दूरियों से
चले भी आओ न सताओ यूँ दूर रहकर 

Advertisements