लम्हों के अफसोस में मेरा नाम छिपा है
जब आयेगे याद ये पल चंचल आँसू छलक जायेगे तेरी आँखों से
अब इसे बद किस्मत कहो या मगरूरियत
सब हैं तेरे वास्ते
हम तो बस इश्क कर गये थे ना चीज से
इसलिए दिल का चैन गवां बेठे

Advertisements