हवा में खामोशी देखी है
सूरज में ठंडक देखी है
जब से हुआ है इश्क
खुद को पिघलते देखा है

Advertisements