बिखर गया हूँ दूर-दूर तक
अब समेट पाना मुमकिन नहीं
है अब खयाल तो करवट बदल लो
इन ख्वाबों में जीना अब मुनासिब नहीं

Advertisements