अभी लिखे हैं कई समायें रोशन
इक बन्द कमरे में मैने
बहारों मे जाना हुआ तो
अफताब-ए-रोशन ये जिंदगियां लिखूंगा

Advertisements