कही बेफिक्र ये वक्त है उसकी बाहो मे
के ये इन्तजार बसर रहा
कैद कर लै मुझे भी इनके दरमिया
लम्हों का इन्तजार अच्छा नही होता

Advertisements