अभी लिखता हूँ इश्क के दरमिया
के तेरा मन्जर अभी भूला नही
खुद को खो बैठा हूँ तेरी यादों के घने कोहरे मे कहीं
के अब तेरी राह नजर आती नही

Advertisements