मे कातिब हूँ  के लिखना मेरा शौक नही
इन उंगलियों का वो जादू है महज
जो घूम जाती है उन पहेलियों पे
की तेरा जिक्र अाना भी इक इतेफाक लगे

Advertisements