खुद किताब बन गया
की लफ्ज न पढ सकू
न जाने किसने लिखे
एसे लफ्ज़-ए-राज
की दर्द होता है बिन पढे

Advertisements