आए थे तेरी गली मे एक अफसाना लेके

लौट चले हैं बस आंखो मे ख्वाब लिए

तेरा साथ तो धूप  मे वर्फ की तरह  है

चलना भी चाहो साथ तो कब तक

Advertisements