धूप  मे  चल रहा था तो बड़ा फ़क्र था परछाई तो साथ है

छाऊँ आते ही एहसास हुआ खुद के सिवा साथ कोई नहीं होता

Advertisements