फैलाने लगे थे पाऊँ कुछ ज्यादा

लटकने लगे तो एहसास हुआ

खटिया छोटी  थी हमारी

Advertisements