हर रोज कोशीश की थी भूलने की तुम्हें 
हर रोज याद करने की आदत बना दी 
राते तो कट जाती हैं करवटें बदलते 
दिन मदहोश गुजरते हैं 
यूं तो अभी एक अरसा ही गुजरा है 
शायद यूं ही जिंदगी भी गुजर जाएगी
Advertisements