न कुछ पाने की चाह है
न ही खोने का डर
बस इतनी सी परवाह है वो कभी रूठे न मुझसे जिसके बिन हम जी नहीं सकते।

Advertisements