जान के भी इश्क़ की भूल कर दी
पूरी न होने वाली ख़्वाहिश कर दी
तुझे पाने की खोशिश नहीं कर सकता
मिल भी जाए तो तुझे अपना नहीं सकता
किस मोड पे आ गए ये हम
जीवन तो है पर जीने को भी दिल नहीं करता।

Advertisements