कुछ है मेरे दर्द की दास्तान
यूं न तेरे आने से दूर होगा
न आए तो भी कम न होगा
वो जिंदगी की आदत बन गयी है
मिल जाए तो दर्द होता है
न मिले तो भी दर्द होता है
न जाने क्या है ये बेबसी।

Advertisements